AIIMS PG Entrance Exam 2020

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) की पीजी प्रवेश परीक्षा (AIIMS PG Entrance Exam 2020)को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है। उच्च न्यायालय ने गुरुवार को आयोजित होने वाली परीक्षा को स्थगित करने का आदेश जारी करने से इंकार कर दिया। हाई कोर्ट ने निर्धारित कार्यक्रम के मुताबिक गुरुवार को ही परीक्षा कराने का आदेश दिया।

हाई कोर्ट ने कहा कि इस परीक्षा में 40 हजार से ज्याद छात्र सम्मिलित हो रहे हैं और इस लिहाज से परीक्षा के लिए काफी बड़े पैमाने पर तैयारी की गई है। कोरोना वायरस संक्रमण की मौजूदा स्थिति को देखते हुए सुरक्षा के तमाम संसाधन जुटाए गए हैं।
इनमें सामाजिक दूरी का पालन और सेनेटाईजेशन जैसे सुरक्षा के उपाय भी शामिल हैं। ऐसे में परीक्षा स्थगित नहीं की जा सकती।

न्यायमूर्ति जयंत नाथ की पीठ में परीक्षा में शामिल होने वाले विभिन्न एमबीबीएस डॉक्टरों की याचिका खारिज कर दी। इन डॉक्टरों ने कहा था कि कोविड 19 के ढाई लाख से अधिक मामले सामने आ चुके हैं और ऐसे में परीक्षा कराना बड़ा खतरा होगा। अदालत ने इसके संबंध में आदेश देते हुए कहा कि अंतिम समय में पीजी प्रवेश परीक्षा को स्थगित नहीं की जा सकती क्योंकि इसके लिए कोई बड़ी वजह नहीं है। एम्स प्रवेश परीक्षा के लिए सारे एहतियाती उपायों और चिकित्सा नियमों का पालन किया जा रहा है। परीक्षार्थियों से आग्रह है कि वे इन सबका अनिवार्य रुप से पालन करें। याचिकाकर्ता डॉक्टरों ने याचिका में इसके अलावा एम्स द्वारा आयोजित की जाने वाली अन्य चिकित्सा परीक्षाओं को भी जुलाई तक के लिए स्थगित करने की मांग की थी।

                                         एम्स के वकील ने अपने जवाब में हाई कोर्ट को जानकारी दी कि परीक्षा की अधिसूचना 16 जनवरी को जारी की गई थी और अब यह 250 केंद्रों पर आयोजित की जा रही है। उन्होंने बताया कि एम्स ने इसके लिए काफी तैयारी की है और और तमाम संसाधन जुटाए हैं। इस पर काफी बड़ी राशि खर्च की गई है, यदि परीक्षा निरस्त होती है तो ये तमाम तैयारियां जाया हो जाएंगी।

Source by : Panjab Keshri News

Scroll to Top